Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi – सूखी खांसी का घरेलु इलाज

Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi – सूखी खांसी का घरेलु इलाज

आमतौर पर खांसी सबको होती है। और वैसे तो खाँसना एक सामन्य क्रिया है। पर कही बार खांसी की समस्या बहुत जादा हो जाती है। यह एक ऐसी समस्या है जो कभी भी और किसी भी मौसम में हो सकती है। चाहे वह बरसात का मौसम हो या सर्दी का हो यह गर्मी का मौसम हो। जभी भी मौसम में थोड़ा बहुत बदलाव होता है तो सर्दी की समस्या होने लगती है।

यह समस्या आगे चलकर बड़ी समस्या भी हो सकती है। अगर समय रहते खांसी की समस्या को काबू न किया जय तो आगे चलकर यह बड़ी समस्या का रूप ले सकती है। जैसे की pneumonia, bronchitis जैसे समस्या हो सकती है। खांसी की समस्या किसी को भी हो सकती है। पर जिन लोगोका रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है उन लोगो में यह समस्या जादा पायी जाती है।

जब भी मौसम में थोड़ा बदलाव होता है। तो सबसे पहले इसका असर अपने शरीर पर होता है। और सर्दी, जुखाम, खांसी जैसी समस्या होती हैं। जिन लोगो की रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है वह लोग इस समस्या से बहुत जल्द निजात पा लेते है। पर जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है उन लोगो को यह समस्या का सामना करना पड़ता है।

वैसे तो खांसी होने के बहुत सारे कारण होते है। और आमतौर पर खांसी अपने आप ठीक हो जाते है। पर किसी मामले में खांसी बहुत दिनों तक रहती है। और कही बार गोलिया दवाई लेकर भी यह समस्या ठीक नहीं होती। यह समस्या ठीक करने के लिए कहीं बार घरेलु उपाय बहुत असरदार होते है।

यह लेख में हमने Sukhi Khansi Ka Gharlu Ilaj In Hindi के बारेमें बताया है। और आप इसका इस्तेमाल करके यह समस्या से राहत पा सकते है।

सूखी खांसी होने के कारण – Sukhi Khansi Ke Karan

सूखी खांसी के कारण कही सारे सकते है। आपको इन कारणों जानकर काफ़ी मदद हो सकती है। आप इसकी सहयता से और खांसी के कारणों नुसार अपने खांसी का इलाज कर सकते है। इसलिए सूखी खांसी के कारण जानकर आप इसका इलाज कर सकते है। निचे कुछ Sukhi Khansi Ke Karan दिए गए है।

Sukhi Khansi Ke Karan

  • नाक और गले में अलर्जी के कारण
  • अस्थमा या टीबी जैसे बीमारियों के कारण
  • सर्दी, फ्लू या किसी viral infection के कारण भी सूखी खांसी हो सकती है।
  • फेफड़ो के कैंसर होने के कारण
  • नाक में जादा बलगम बनने से भी खॉंसी हो सकती है।
  • किसी दवाई के साइड इफ़ेक्ट के कारण
  • कही बार स्मोकिंग के कारण भी सूखी खांसी हो सकती है।
  • धूल, प्रदुषण, डस्ट अलर्जी के कारण भी सूखी खांसी होती है।

यह कारणों के अलावा सूखी खांसी के बहुत सारे कारण हो सकते है। जैसे किसी संक्रमित व्यक्ति के सहवास में आने से भी खांसी हो सकती है। जैसे की किसी संक्रमित व्यक्ति आपके सामने खांसता है तो उसके कीटाणु शरीर में प्रवेश करके आपको भी संक्रमित कर सकते है।

जादा समय रहने वाली खांसी आपको बहुत परेशान कर सकती है। यह आपके साथ दुसरो को भी परेशान करती है। अगर आप लगातार खांसते है इससे दुसरो को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

वैसे खांसी के बहुत सारे ईलाज और दवाइया बाजार में उपलब्ध है। पर यह दवाइया का असर कुछ समय तक रहता है फिर बाद में खांसी बढ़ती है। पर खांसी को जड़ से निकलने के लिए आयुर्वेद में कही सारे इलाज है।

और आप किसी Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi घरेलु उपाय से भी अपनी खांसी को जड़ से ख़तम कर सकते है। इस पोस्ट में हम आपको ऐसे बहुत सारे नुस्खे बताएँगे। आप उनकी सहयता से यह खांसी की समस्या से जड़ से निजात पा सकते है।

सूखी खांसी का घरेलु इलाज – Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi

आज इस पोस्ट में हम आपको Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi के बारेमें बताएँगे। आप इस घरेलु नुस्खे की सहयता लेकर अपनी खांसी को ठीक कर सकते है।

शहद

सूखी खांसी को दूर करने के लिए शहद किसी दवा से कम नहीं। शहद में एंटीबैक्टीरियल जैसे गुण होते है जो खांसी और गले में खराश जैसे समस्या को दूर करते है। शहद बच्चो से लेकर बड़े तक इसका इस्तेमाल कर सकते है। शहद में काफी सारे औषधीय गुण होते है जो खांसी की समस्या से राहत दे सकता है।

एक चम्मच शहद को आपको दिनमे 3 से 4 बार लेना है। ऐसा करने से आपको कुछ ही दिनों में सूखी खांसी से राहत मिल सकती है। यह Sukhi Khansi Ka Gharlu Ilaj In Hindi का कारगर नुस्खा है। और जितना हो सखे उतना शुद्ध शहद का इस्तेमाल करें। क्योकि शुद्ध शहद में एंजाइम होते है। जो सूखी खांसी से कम करने में मदद करते है।

हल्दी

सूखी खांसी के इलाज के लिए हल्दी को अच्छा माना जाता है। हल्दी में कही प्रकार के औषधीय गुण होते है। जो सूखी खांसी के इलाज के लिए उपयुक्त होता है।

हल्दी कही सारे बीमारियों पर रामबाण इलाज है। इसका उपयोग आयुर्वेद में बहुत समय से हो रहा है। हल्दी में एंटीबैक्टीरियल जैसे गुण होते है जो कीटाणु के संक्रमण को रोखता है।

आधा कप पानी को उबाल ले। फिर उसमे 1 चम्मच हल्दी, 1 चम्मच काली मिर्च और 1 चम्मच दालचीनी मिलाए। इसे थोड़ा उबलने दे फिर इसमें 1 चम्मच शहद मिला ले। जल्दी परिणाम के लिए इसका सेवन दिन में दो बार करें।

गर्म पानी

गर्म पानी का सेवन करने से भी आप खांसी के समस्या से निजात पा सकते है। आप सुबह उठाने के बाद गर्म पानी का सेवन करें। इससे गले को आराम मिलता है। और खांसी की समस्या कम होती है। जल्द परिणाम प्राप्त करने के लिए गर्म पानी का दिन में 3 से 4 बार सेवन करें।

नमक का पानी

खांसी से तुरंत निजात पाने के लिए नमक के पानी से गरारे करने से बहुत मदद होती है। खांसी जैसे समस्या के लिए यह एक असरदार उपाय है। यह कफ को कम करके गले के दर्द को दूर करता है। एक गिलास गुनगुने पानी में 1 चम्मच नमक को मिला ले। फिर इस पानी को मुँह में लेकर गरारे करें। ऐसा करने से आपको जल्द आराम मिलता है।

अदरक

खांसी से निजात पाने के लिए अदरक का काढ़ा पीना काफी उपयुक्त माना जाता है। यह खांसी को भगाने का पुराना नुस्खा है। अदरक में बहुतसे औषधीय गुण मौजूद होते है। जो सर्दी, खांसी, जैसे बीमारियों को दूर करने में मदद करते है। इसमें कही प्रकार एंटीबैक्टीरियल जैसे गुण भी होते है। जो खांसी के संक्रमण को रोखते है।

अदरक के कुछ टुकड़े को एक गिलास पानी में उबाल ले। फिर इसमें 2 चम्मच शहद को मिलकर इसे सेवन करें। अच्छे व् जल्द परिणाम के लिए इसे दिन में 2 से 3 बार सेवन करें। और अपनी खांसी समस्या से निजात पाए।

तुलसी का काढ़ा

तुलसी के पत्तो को निकलकर उसका रस निकाल ले और उसमे थोडा शहद मिलाकर पिने से खांसी की समस्या दूर हो जाती है। यह खांसी को कम करने में काफी असरदार नुस्खा है। तुलसी का काढ़ा खांसी को कम करने के लिए काफी उपयुक्त होता है। यह कीटाणु क्व संक्रमण को रोखता है।

तुलसी में बहुत औषधीय गुण होते है। और यह काफी प्राचीन काल से उपयोग में लेने वाली औषधी है। तुलसी का महत्व आयुर्वेद में बताया है। यह कीटाणु के संक्रमण को रखने के लिए उपयुक्त होती है।

लहसून

sukhi khansi ka ilaj | sukhi khansi ka gharelu ilaj | sukhi khansi ka ilaj in hindi | sukhi khansi ka desi ilaj in hindi | bacho ki sukhi khansi ka ilaj | purani sukhi khansi ka ilaj in hindi | dry cough home remedies in hindi | sukhi khansi ki dawa
Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi

लहसून में एंटीबैक्टीरियल गुण होते है। यह गले में खराश, खांसी जैसे बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। औषधी पदार्थ के तौर पर लहसून का आयुर्वेद में काफी महत्व है। यह बहुतसे बीमारी से लड़ने में मदद करता है। लहसून का उपयोग करके आप अपनी खांसी को कम कर सकते है।

एक कफ पानी में 2 3 लहसून की कलिया डालकर उबाल ले। जब पानी गुनगुना हो जाए तब उसमे शहद मिलकर उसका सेवन करें। इसका सेवन दिन में 3 बार करने से आपको खांसी की समस्या से जल्द आराम मिल सकता है।

नींबू

दो चम्मच नींबू के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर इसक सेवन करने से गले को आराम मिलता है और सूखी खांसी से राहत मिलती है। नींबू में विटामिन सी होता है। जो संक्रमण को कम करता है। और खांसी की समस्या से रहता देता है। यह मिश्रण का सेवन दिन में 4 बार करने से आप जल्द ही यह समस्या से राहत पा सकते है।

प्याज

खांसी के उपचार मे यह एक आसान व् घरेलु उपचार है। आधा चम्मच प्याज के रस में आधा चम्मच शहद को मिला ले। फिर इसे दिन में 2 से 3 बार सेवन करें। यह एक बहुत कारगर नुस्खा है। इसका सेवन से आप जल्द ही खांसी की समस्या से छुटकारा पा सकते है।

गरम दूध

गरम दूध का सेवन करने से कफ की समस्या में राहत मिलती है। एक गिलास गरम दूध पिने से आपको खांसी की समस्या कम हो सकती है। गरम दूध का उपयोग आप रात में कर सकते है। रात में सोने से पहले एक गिलास गरम दूध पिने से आपको काफी आराम मिल सकता है। और बार बार खाँसना कम होता है।

काली मिर्च

काली मिर्च का उपयोग खांसी को कम करने में होता है। यह एक खांसी की समस्या के लिए कारगर नुस्खा है। काली मिर्च को दूध में मिलाकर सेवन करने से खांसी जल्द ही कम होती है। इसके साथ काली मिर्च को घी में भून कर रोज खाने से खांसी की समस्या में जल्द आराम मिलता है। काली मिर्च में कही प्रकार के औषधीय गुण होते है। जो खांसी कोप कम करने में मदद करते है।

मसाला चाय

तुलसी, अदरक, और काली मिर्च को मिलाकर एक मसाला चाय खांसी में काफी आराम देती है। आप इसक सेवन करने से जल्द ही इस समस्या से राहत पा सकते है।

गाजर का जूस

गाजर का जूस का सेवन करने से भी आपको खांसी में काफी अच्छा महसूस हो सक्क्ता है। आप गाजर का जूस का रोजाना सेवन कर सकते है। इसे दिन में 3 से 4 बार पिने से आप इस समस्या से राहत पा सकते है।

गरम भाप

सूखी खांसी को कम करने के लिए गरम भाप काफी उपयुक्त होती है। गरम भाप का खासी में उपयोग करने से काफी हद तक राहत मिल सकती है। गरम भाप से गले को गर्महाट मिलती है जिससे गले में होने वाले संक्रमण कम होता है और सुखी खांसी तुरंत कम हो जाती है।

सूखी खांसी की दवा – Sukhi Khansi Ki Dawa

खांसी की दवाएं आमतोर पर खांसी के इलाज मि लिया जाता है। खांसी तब होती है जब आपके ऊपरी श्वसन पथ में संक्रमण होता है। खांसी की दवाएं सूखी खांसी और बलगम वाली खांसी के लिए अलग अलग होती है। अक्सर देखा गया है की खांसी की दवाएं काम नहीं करती।

कुछ लोगो में इसका प्रभाव देखा जाता है तो कुछ लोगो में नहीं दिखता है। खांसी की दवाई अक्सर खांसी को दबाने और छाती के बलगम को बाहर निकलने में मदद करती है।

सूखी खांसी की दवाई को एंटीटूसविसेज कहा जाता है। जो सूखी खांसी को दबाती है। निचे कुछ खांसी की कुछ आयुर्वेदिक दवाई दी गयी है। आप Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi इसका भी इस्तेमाल कर सकते है।

  1. डाबर होणितुस / Dabur Honitus
  2. बैद्यनाथ भृंगराजसवा / Baidyanath Bhringrajasava
  3. हिमानी फ़ास्ट रिलीफ हर्बल कफ / Himani Fast Relief Herbal Cough And Cold Triple Action Syrup
  4. झंडू कफ सिरप / Zandu Zefs Cough Syrup:
  5. हिमालया कोफलेट / Himalaya Koflet
  6. चरक कोफॉल / Charak Kofol
  7. हमदर्द जोशीना / Hamdard Joshina
  8. दिव्य स्वसारी /Divya Pharmacy Swasari Pravahi
  9. हिमानी सर्दी झा / Himani Sardi Jaa
  10. Ayurvedic Cough Syrup – Scortis Healthcare’s Q-FEX

दोस्तो हम उम्मीद करते है के Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi – सूखी खांसी का घरेलु इलाज अच्छा लगा हो। हमारी यही कोशिश है के आपको बालों की सभी समस्या के निजात और घरेलू उपाय दिये जाए।


अगर आपको आपको सूखी खांसी का घरेलु इलाज पसंद आया हो तो कृपया ये पोस्ट अपने परिवार या मित्रो के साथ शेयर करे। ताकि उन्हें भी इसका लाभ हो। आपको Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi के बारेमें कोई भी समस्या हो तो निचे कमेंट बॉक्स में पूछिए। धन्यवाद HindiJunction आने के लिए।

5 thoughts on “Sukhi Khansi Ka Gharelu Ilaj In Hindi – सूखी खांसी का घरेलु इलाज”

Leave a Comment