Sarvanam In Hindi / सर्वनाम – सर्वनाम की परिभाषा, भेद, उदाहरण – हिंदी व्याकरण

sarvanam |sarvanam ke bhed | sarvanam in hindi| sarvanam ki paribhasha | sarvanam kise kehte hain | sarvanam ke kitne bhed hote hain | sarvanam ke prakar | sarvanam in hindi worksheet | sarvanam ke udaharan | hindi grammar sarvanam | sarvanam kitne prakar ke hote hain | sarvanam examples in hindi | sarvanam definition in hindi | Purush Vachak Sarvanam In Hindi | Purush Vachak Sarvanam Ke Bhed In Hindi | Nij Vachak Sarvanam In Hindi | Nij Vachak Sarvanam Ke Udaharan In Hindi | Nishchay Vachak Sarvanam In Hindi | Nishchay Vachak Sarvanam Ke Udaharan In Hindi | Anishchay Vachak Sarvanam In Hindi | Sambandh Vachak Sarvanam In Hindi | Prashna Vachak Sarvanam In Hindi

Sarvanam In Hindi / सर्वनाम – सर्वनाम की परिभाषा, भेद, उदाहरण – हिंदी व्याकरण:

Contents hide

सर्वनाम की परिभाषा / Sarvanam (Pronoun) Ki Paribhasha In Hindi

संज्ञा (नाम) की पुनरावृत्ति को रोखने के लिए जिस शब्द का प्रयोग संज्ञा के स्थान पर किया जाता है उसे ‘सर्वनाम’ कहते है।

जैसे-मैं, तुम, हम, वह, आप, उसका, उसकी, जो, कोही आदि

सर्वनाम शब्द का अर्थ ‘सबका नाम’ होता है। जिस शब्द को संज्ञा (नाम) की जगह पर उपयोग किया जाता है वह ‘सर्वनाम’ होता है। भाषा को अत्यंत प्रभावशाली बनाने के लिए सर्वनाम का उपयोग होता है।

यदि संज्ञा (नाम) वाक्य में बार-बार प्रकट होता है, तो यह सुनने के लिए अच्छा नहीं लगता है। इसलिए हम नाम के इस दोहराव से बचने के लिए वाक्यों में ‘मैं, तुम, वह, यह, वह, तुम, कौन, क्या’ जैसे शब्दों का प्रयोग करते हैं।

इन सर्वनामों का खुदका कोही वजूद नहीं होता है। वे उन संज्ञाओं (नाम) का अर्थ प्राप्त कर लेते है जिनके साथ वे प्रकट होते है। वाक्यों में जब तक कोही संज्ञा दिखाई नहीं देती तब तक सर्वनाम किसी भी वाक्य में प्रकट नहीं होते है।

यह नामो का प्रतिनिधित्व करता है और वे सभी कार्य करते है, जो कार्य संज्ञा करती है। यह संज्ञा की तरह ही सभी प्रकार के कार्य करते है, इसलिए यह शब्द को ‘सर्वनाम’ कहते है।

सर्वनाम के उदाहरण / Sarvanam (Pronoun) Ke Udaharan In Hindi

1. गीता 11 वीं कक्षा में पढ़ती है।

2. गीता स्कूल जा रही है।

3. गीता के पिताजी अफसर है।

4. गीता की माताजी टीचर है।

5. गीता का भाई खेल रहा है।

ऊपर दिए गए वाक्य में गीता (संज्ञा) का उपयोग बार-बार हुआ है। जिसके कारण वाक्य कम आकर्षित दीखता है। यदि हम सभी वाक्यों में गीता (संज्ञा) के स्थान पर किसी तरह उचित शब्द का उपयोग करें तो वाक्य सुन्दर और आकर्षित बनता है। इसलिए संज्ञा के स्थान पर प्रकट होने वाले शब्द को ‘सर्वनाम’ कहते है। जैसे –

1. गीता 11 वीं कक्षा में पढ़ती है।

2. वह स्कूल जा रही है।

3. उसके पिताजी अफसर है।

4. उसकी माताजी टीचर है।

5. उसका भाई खेल रहा है।

सर्वनाम के भेद / Sarvanam (Pronoun) Ke Bhed In Hindi

  1. पुरुषवाचक सर्वनाम
  2. निजवाचक सर्वनाम
  3. निश्चयवाचक सर्वनाम
  4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  5. संबंधवाचक सर्वनाम
  6. प्रश्नवाचक सर्वनाम

1. पुरुषवाचक सर्वनाम / Purush Vachak Sarvanam In Hindi

जिन सर्वनामों से किसी व्यक्ति की समझ यानि बोध होता है उसे ‘पुरुषवाचक सर्वनाम‘ कहते है। दुनिया में बोलने वाला और लिखने वाला लेखक के दृष्टिकोण से तीन श्रेणियाँ होती है। यह

  1. बोलने वालों की
  2. जिनसे हम बोलते और लिखते
  3. जिन लोगों या चीजों के बारे में बात करते हैं या जिनके बारे में लिखते है

व्याकरण में, उन्हें सभी को पुरुष कहा जाता है। और यह तीन श्रेणियों में संज्ञा के स्थान पर प्रकट होने वाले सर्वनामों को ‘पुरुषवाचक सर्वनाम‘ कहते है

जैसे- मैं , तू , वह , हम , वे , आप , उसे , उन्हें , ये , यह आदि।

कुछ वाक्यों को देखिए-

उसने मुझे बोला था के तुम खेल रहे हो।

ऊपर दिए गए उदाहरण में तीन प्रकार के श्रेणियों को स्पष्ट किया है। इस उदाहरण से पुरुषवाचक सर्वनाम के तीन भेद स्पष्ट होता है।

पुरुषवाचक सर्वनाम के भेद / Purush Vachak Sarvanam Ke Bhed In Hindi

  1. उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम
  2. मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम
  3. अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम

1. उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम

बोलने वाला स्वयं का जिक्र करते समय जिन सर्वनामों का उपयोग करते है उसे ‘उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम‘ कहते है। अर्थात जिन सर्वनामों का उपयोग कहने वाला खुद को प्रकट करने के लिए करता है वह उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम होते है।

जैसे- मैं, हम, हमारा, मुझे, मैंने, मुझको, हमको, मेरा, हमें आदि।

उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण

मैं कल स्कूल जाऊँगा।
हम आज मतदान नहीं करेंगे।
यह कविता मैंने लिखी है।
बारिश में हमारी पुस्तकें भीग गई।
मैंने उसे धोखा नहीं दिया।

2. मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम

हम जिस व्यक्ति से बात कर रहे है उसका जिक्र करते समय हम जिन सर्वनाम प्रयोग करते है उसे ‘मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम‘ कहते है। जिन सर्वनामों का उपयोग बोलने वाला सुनने वाले के लिए करता है वह मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम होते है।

जैसे- तू, तुझे, तेरा, तुम, तुम्हे, तुम्हारा, आप, आपको, आपका, आप लोग, आप लोगों को आदि । 

मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण

तुमने घरका काम नहीं किया है।
तुम अब सो जाओ।
तुम्हारे पिताजी क्या काम करते हैं ?
तू घर देर से क्यों पहुँचा ?
तुमसे कुछ काम है।

3. अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम

जिस व्यक्ति या वस्तु के बारे में बात कर रहे है उसके संदर्भ में जिन सर्वनाम का उपयोग करते है उसे ‘अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम‘ कहते है। अर्थात बोलने वाला किसी व्यक्ति के बारेमें बोलते समय जिन सर्वनामो का प्रयोग करता है वह अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम होते है।

जैसे- वह, उसने, उसको, उसका, उसे, उसमें, वे, इन्होंने, उनको, उनका, उन्हें, उनमें आदि ।

अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण

वे मैच नही खेलेंगे।
उन्होंने कमर कस ली है।
वह कल विद्यालय नहीं आया था।
उसे कुछ मत कहना।
उन्हें रोको मत, जाने दो।

2. निजवाचक सर्वनाम / Nij Vachak Sarvanam In Hindi

निजवाचक शब्द दो शब्दों को जोड़कर बनता है – “निज+वाचक” उसमे ‘निज’ शब्द का अर्थ अपना होता है और वाचक शब्द का अर्थ बोध होता है। इसलिए अपनेपन का बोध करने वाले सर्वनामों को ‘निजवाचक सर्वनाम‘ कहते है।

जो शब्द कर्ता के स्वयं के लिए प्रकट होता है वह निजवाचक सर्वनाम कहलाता है। वक्ता यानि बोलने वाला खुदके लिए जिन सर्वनामों का उपयोग करता है वह निजवाचक सर्वनाम होते है।

जैसे- स्वयं, हमें, अपने, आप, खुद, अपने आप, निजी आदि।

निजवाचक सर्वनाम के उदाहरण / Nij Vachak Sarvanam Ke Udaharan In Hindi

उसने अपने आप को बर्बाद कर लिया।
मैं खुद फोन कर लूँगा।
तुम स्वयं यह कार्य करो।
नेहा आप ही चली गयी।

Note: इसके ‘आप’ का प्रयोग अपने लिए / स्वयं (self) के लिए होता है। यह आदर सूचक ‘आप’ के लिए नही होता है।

3. निश्चयवाचक (संकेतवाचक) सर्वनाम / Nishchay Vachak Sarvanam In Hindi

जिन सर्वनाम का उपयोग किसी निश्चित व्यक्ति, वस्तु अथवा घटना का बोध करने के लिए होता है उसे ‘निश्चयवाचक सर्वनाम‘ कहते है। इस सर्वनाम को संकेतवाचक सर्वनाम भी कहते है।

जैसे- यह, वह, वे, ये आदि।

निश्चयवाचक सर्वनाम के उदाहरण / Nishchay Vachak Sarvanam Ke Udaharan In Hindi

यह मेरी घडी है।
वह रमेश का घोडा है।
वह एक लड़का/लड़की है।
वे इधर ही आ रहे है।

निश्चयवाचक सर्वनाम के अन्य प्रकार

  1. निकटवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम
  2. दूरवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम

1. निकटवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम

जो सर्वनाम निकट यानि पास वाले व्यक्ति या वस्तुओं निश्चित रूप से का बोध करता है उसे ‘निकटवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम‘ कहते है।

जैसे- यह मेरी क़िताब है। ये वस्तु मुझे बहुत पसंद है।

इसमें यह और ये शब्द निकटवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम को दर्शाता है।

2. दूरवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम

जो सर्वनाम दूर वाले व्यक्ति और वस्तुओं का निश्चित रूप से बोध करता है उसे ‘दूरवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम‘ कहते है।

जैसे- वह मेरी किताब रखी है। वे एक पेड़ है।

इसमें वह और वे शब्द को दूरवर्ती निश्चयवाचक सर्वनाम दर्शाता है।

4. अनिश्चयवाचक सर्वनाम / Anishchay Vachak Sarvanam In Hindi

जिन सर्वनाम का उपयोग किसी निश्चित व्यक्ति, वस्तु अथवा घटना का बोध करने के लिए नहीं होता है उसे ‘अनिश्चयवाचक सर्वनाम‘ कहते है।

जैसे- कोई, कुछ, किसी, कौन, किसने, किन्ही को, किन्ही ने, जौन, तौन, जहाँ, वहाँ आदि।

अनिश्चयवाचक सर्वनाम के उदाहरण / Anishchay Vachak Sarvanam Ke Udaharan In Hindi

लस्सी में कुछ पड़ा है।
भिखारी को खाने के लिए कुछ दे दो।
कौन साथ आ रहा है ?
राम को किसने बुलाया है ?
शायद किसी ने घंटी बजायी है।

5. संबंधवाचक सर्वनाम / Sambandh Vachak Sarvanam In Hindi

जिस सर्वनाम का उपयोग करने से वाक्य में किसी दूसरे सर्वनाम से संबंध ज्ञात होता है उसे ‘संबंधवाचक सर्वनाम‘ कहते है। अर्थात जिन सर्वनाम शब्दों से परस्पर संबंध का पता लगता है वह संबंधवाचक सर्वनाम होता है।

जो सर्वनाम शब्द किसी दूसरी संज्ञा (नाम) या सर्वनाम से संबंध दिखाने के लिए प्रयुक्त यानि प्रकट होता है वह संबंधवाचक सर्वनाम कहलाता है।

जैसे- जैसी ,वैसी , जैसा , जो , जिसकी , सो , जिसने , तैसी , जहाँ , वहाँ , जिसकी , उसकी , जितना , उतना आदि।

संबंधवाचक सर्वनाम के उदाहरण / Sambandh Vachak Sarvanam Ke Udaharan In Hindi

जो करेगा सो भरेगा।
जहाँ चाह वहाँ राह।
जैसा बोओगे वैसा काटोगे।
वह कौन है जो रो पड़ा।
जो सो गया वो खो गया।

6. प्रश्नवाचक सर्वनाम / Prashna Vachak Sarvanam In Hindi

जिन सर्वनामों का प्रश्न पूछने लिए उपयोग होता है उसे ‘प्रश्नवाचक सर्वनाम‘ कहते है। अर्थात जिन सर्वनाम के उपयोग से वाक्य में प्रश्न का बोध होता है वह प्रश्नवाचक सर्वनाम कहलाता है।

जैसे- क्या, कौन, किसने, कैसे, किसका, किसको, किसलिए, कहाँ आदि।

प्रश्नवाचक सर्वनाम के उदाहरण / Prashna Vachak Sarvanam Ke Udaharan In Hindi

रमेश क्या खा रहा है ?
कमरे में कौन बैठा है ?
वे कल कहाँ गए थे ?
आप कैसे हो ?

संयुक्त सर्वनाम / Sanyukt Sarvanam In Hindi

कुछ सर्वनाम अलग श्रेणियों के होते है। यह सर्वनाम अन्य सर्वनामों के मुताबिक भिन्य होते है। यह सर्वनाम में दो और दो से अधिक शब्द मौजूद होते है। यह सर्वनाम संज्ञा के साथ स्वत्रंत रूप से प्रयुक्त किए जाते है।

जैसे- जो कोई, कोई न कोई, कोई कोई, कौन कौन, कुछ कुछ, सब कोई, हर कोई, और कोई, कोई और आदि।

संयुक्त सर्वनाम के उदाहरण / Sanyukt Sarvanam Ke Udaharan In Hindi

जो कोई भी आए उसे रोक लो।
जाओ, वहाँ कोई न कोई तो मिल ही जायेगा।
देखो, कुछ और लोग वहाँ हैं।
कोई-कोई तो बिना बात बहस करता ही है।
कौन-कौन साथ आ रहा है ?

सर्वनाम की कारक रचना / Sarvnam Ki Karak Rachna In Hindi

1. उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम की रचना :- मैं

कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता मैं, मैंने हम, हमने
कर्म मुझे, मुझको हमें, हमको
करण मुझसे, मेरे द्वारा हमसे, हमारे द्वारा
सम्प्रदान मुझे, मेरे लिए हमें, हमारे लिए
अपादान मुझसे हमसे
संबंध मेरा, मेरी, मेरे हमारा, हमारी, हमारे
अधिकरण मुझमें, मुझपर हममें, हमपर

2. मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम की रचना :- तू, तुम, आप

कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता तू, तूने तुम, तुमने, तुम लोगों ने, आप, आपने
कर्म तुझको, तुझे तुम्हें, तुम लोगों को, आपको
करण तुझसे, तेरे द्वारा तुमसे, तुम्हारे से, तुम लोगों से, तुम्हारे द्वारा, आपसे, आपके द्वारा
सम्प्रदान तुझको, तेरे लिए, तुझे तुम्हें, तुम्हारे लिए, तुम लोगों के लिए, आपके लिए
अपादान तुझसे तुमसे, तुम लोगों से, आपसे
संबंध तेरा, तेरे, तेरी तुम्हारा, तुम्हारी, तुम लोगों का, तुम लोगों की, आपका, आपके, आपकी
अधिकरण तुझमें, तुझपर तुममें, तुम लोगों में, तुम लोगों पर आपमें, आप पर

3. अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम की रचना :- वह

कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता वह, उसने वे, उन्होंने
कर्म उसे, उसको उन्हें, उनको
करण उससे, उसके द्वारा उनसे, उनके द्वारा
सम्प्रदान उसको, उसे, उसके लिए उनको, उन्हे, उनके लिए
अपादान उससे उनसे
संबंध उसका, उसकी, उसके उनका, उनकी, उनके
अधिकरण उसमें, उस पर उनमें, उनपर

4. निश्चयवाचक सर्वनाम की रचना :- यह

कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता यह, इसने ये, इन्होने
कर्म इसे, इसको ये, इनको, इन्हें
करण इससे इनसे
सम्प्रदान इसे, इसको इन्हें, इनको
अपादान इससे इनसे
संबंध इसका, इसकी, इसके इनका, इनकी, इनके
अधिकरण इसमें, इसपर इनमें, इनपर

5. अनिश्चयवाचक सर्वनाम की रचना :- कोई

कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता कोई, किसने किन्हीं ने
कर्म किसी को किन्ही को
करण किसी से किन्ही से
सम्प्रदान किसी को, किसी के लिए किन्ही को, किन्ही के लिए
अपादान किसी से किन्ही से
संबंध किसी का, किसी की, किसी के किन्ही का, किन्ही की, किन्ही को
अधिकरण किसी में, किसी पर किन्ही में, किन्ही पर

6. संबंध वाचक सर्वनाम की रचना :- जो

कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता जो, जिसने जो, जिन्होंने
कर्म जिसे, जिसको जिन्हें, जिनको
करण जिससे, जिसके द्वारा जिनसे, जिनके द्वारा
सम्प्रदान जिसको, जिसके लिए जिनको, जिनके लिए
अपादान जिससे जिनसे
संबंध जिसका, जिसकी, जिसके जिनका, जिनकी, जिनके
अधिकरण जिसपर, जिसमें जिनपर, जिन में

7. प्रश्नवाचक सर्वनाम की रचना :- कौन

कारक एकवचन बहुवचन
कर्ता कौन, किसने कौन, किन्होने
कर्म किसे, किसको, किसके किन्हें, किनको, किनके
करण किस्से, किसके द्वारा किनसे, किनके द्वारा
सम्प्रदान किसके लिए, किसको किनके लिए, किनको
अपादान किससे किनसे
संबंध किसका, किसकी, किसके किनका, किनक , किनके
अधिकरण किसपर, किसमें किनपर, किनमें आदि।

Sawaal Jawaab

  1. sarvanam kitne prakar ke hote hain?

    सर्वनाम मुख्य रूप से 6 प्रकार के होते हैं। जैसे की पुरुषवाचक सर्वनाम, निश्चयवाचक सर्वनाम, अनिश्चयवाचक सर्वनाम, प्रश्नवाचक सर्वनाम, संबंधवाचक सर्वनाम और निजवाचक सर्वनाम इत्यादि।

  2. sarvanam सर्वनाम kise kahate hain ?

    संज्ञा (नाम) की पुनरावृत्ति को रोखने के लिए जिस शब्द का प्रयोग संज्ञा के स्थान पर किया जाता है उसे ‘सर्वनाम’ कहते है।

  3. Purushvachak sarvanam kitne prakar ke hote hain?

    पुरुषवाचक सर्वनाम के तीन भेद स्पष्ट होता है।

  4. Purushvachak sarvanam पुरुषवाचक सर्वनाम kise kahate hain?

    जिन सर्वनामों से किसी व्यक्ति की समझ यानि बोध होता है उसे ‘पुरुषवाचक सर्वनाम’ कहते है।

इस पोस्ट में हमने आपको बहुत से Sarvanam In Hindi के बारेमे बताया। हमारी इस पोस्ट द्वारा यह कोशिश है के आपको सर्वनाम की परिभाषा, भेद, उदाहरण से अवगत किया जाए।

दोस्तो हम उम्मीद करते है के Sarvanam In Hindi / सर्वनाम – सर्वनाम की परिभाषा, भेद, उदाहरण – हिंदी व्याकरण अच्छा लगा हो। हमारी यही कोशिश है के आपको सर्वनाम की परिभाषा, भेद, उदाहरण के बारेमें अवगत किया जाए।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो कृपया ये पोस्ट अपने परिवार या मित्रो के साथ शेयर करे। ताकि उन्हें भी इसका लाभ हो। आपको Sarvanam In Hindi / सर्वनाम – सर्वनाम की परिभाषा, भेद, उदाहरण – हिंदी व्याकरण के बारेमें कोई भी समस्या हो तो निचे कमेंट बॉक्स में पूछिए। धन्यवाद HindiJunction आने के लिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here